20.1 C
RAIPUR
Sunday, January 23, 2022

कोरोना काल में संकट में पत्रकार विस्तृत और प्रामाणिक अध्ययन और राहत की  जरूरत

कोरोना काल में बिगड़े हालात का संज्ञान लेने की जरूरत -सुशील उपाध्याय पत्रकार कितने भी समर्थ हों और मीडिया कितना भी जागरूक हो, लेकिन वह इस...

रात्रि में ऑक्सीजन पेड़ क्यों नही छोड़ पाते ?

डॉ किशोर पंवार आजकल अखबारों में, नेट पर, सोशल मीडिया पर ऐसे पौधों की सूचियों की भरमार है जिनके बारे में यह दावा किया जा...

हिंदुत्व के पोस्टर ब्वॉय के लिये योगी का हठ योग…!

हिंदुत्व के पोस्टर ब्वॉय के लिये योगी का हठ योग... मोदी के बाद गद्दी पर कौन? का जवाब दे रहे हैं गोरक्षपीठाधीश्वर सोशल मीडिया से मोदी...

क्या सिलगेर से आदिवासियों के शांतिपूर्ण विरोध का नया इतिहास लिखा जाएगा ?

23 दिनों से गर्मी, बरसात और पुलिस फायरिंग के बाद भी हजारों आदिवासियों का नए पुलिस कैम्प का शांतिपूर्ण विरोध पढेलिखे आदिवासी युवाओं का आंदोलन...

सरकार के निर्णयों की आलोचना राष्ट्रद्रोह नही – सुप्रीम कोर्ट, वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ...

लोकतंत्र को ‘ठोकतंत्र’ में बदलने से बचाने वाला फैसला…! अजय बोकिल देश की सर्वोच्च अदालत ने जाने-माने पत्रकार विनोद दुआ के खिलाफ राजद्रोह की प्राथमिकी को...

गोवा सत्र न्यायालय के फैसले से उठे सवाल, व्यवस्था व न्याय के मंदिरों से...

शिकार की बजाय शिकारियों के बचाव की पतली गलियां तलाशने का समाजशास्त्र : बादल सरोज दो साल पहले वर्ष 2019 के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार देश...

मध्यप्रदेश की मौजूदा तस्वीर – कितनी भयावह होती जा रही , जिम्मेदारों पर अनगिनत...

आलेख - बादल सरोज  पिछले चार-पांच दिन से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही ये दो तस्वीरें भाजपा राज में मध्यप्रदेश जिस दशा में पहुँच...

मौत के बढ़ते आंकड़ों के बावजूद छ ग टेस्ट मे बढ़ोत्तरी के कारण...

कोरोना संक्रमितों के मामले मे छ ग देश में राज्यों में चौथे स्थान पर, कर्नाटक पाँचवे स्थान पर रायपुर , महाराष्ट्र अभी भी देश में...

केंद्रीय गृह मंत्री और मुख्यमंत्री पहुंचे जगदलपुर, शहीद जवानों को दी विदाई

जगदलपुर  केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा आज जगदलपुर के पुलिस लाइन में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। बता...

23 जवानों की शहादत के बाद माओवादियों की मंशा पर फिर से उठे सवाल...

धरना, जुलूस के ज़रिए आदिवासी उम्मीद कर सकते हैं कि शासन तक अपनी बात पहुँचा सकेंगे। लेकिन माओवादियों से ऐसी कोई आशा उन्हें नहीं है।...